top of page
  • Writer's pictureसंवाददाता

इंडिया घटक दलों की मजबूती के लिए लोकदल ने कसी कमर


लखनऊ। लोकतंत्र को बचाने, किसानों को उनका हक एवं समान विचारधारा रखने वाले भारत जोड़ो नया यात्रा में इण्डिया गठबंधन के साथ आज है। आज लखनऊ में लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी सुनील सिंह ने प्रेस के माध्यम से कहा है कि राष्ट्रीय लोकदल (आरएलडी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी द्वारा इंडिया गठबंधन से अलग होकर एनडीए में शामिल होने के बाद हुए रिक्त स्थान की पूर्ति करने के लिए मुंबई में राहुल गांधी के हाथ को मजबूत करने के लिए भारत जोड़ो न्याय यात्रा मुंबई में शामिल हुआ।

वर्ष 1979 से 1980 में तत्कालीन श्रीमती इंदिरा गांधी के सहयोग से चौधरी चरण सिंह देश के प्रधानमंत्री बने और किसान हित में कई फैसले लिए थे उन्होंने कहा कि देश के पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह को केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा भारत रत्न दी जाने के बाद राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष जयंत चौधरी ने जिस तरह से इंडिया गठबंधन से अलग होकर एनडीए में शामिल होने का निर्णय लिया है इससे किसानों में काफी रोष है।

किसान नाराज है।अब किसानों ने भी तय कर लिया है कि भाजपा के साथ जाने वाली राष्ट्रीय लोकदल को आगामी होने वाले लोकसभा चुनाव में करारा जवाब दिया जाएगा । सुनील सिंह जी ने कहा है कि कांग्रेस नेता तथा सांसद राहुल गांधी द्वारा चलाए जा रहे भारत जोड़ो में यात्रा इस देश की एकता, अखंडता और भाईचारे को बढ़ाने के लिए सही दिशा में कार्य कर रहे हैं।

राहुल गांधी और हमारी विचारधारा समान है इसलिए लोकदल भारत जोड़ो न्याय यात्रा से जुडकर लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए इंडिया गठबंधन का साथ दे रहे है। आज लोकतंत्र खतरे में है।न्याय पालिका खतरे में है।प्रेसवार्ता में सुनील सिंह जी ने कहा हमारा उद्देश्य उस विचारधारा के खिलाफ खड़ा होना है जो इस देश की नींव को नष्ट करना चाहती है।

इलेक्ट्रोबॉन्ड के प्रश्न पर मीडिया से बताया एसबीआई ने इलेक्शन कमिशन को दी जानकारी में बॉन्ड के नंबर छिपा लिए हैं।

हर चंदे के साथ चंदा देने की तारीख़ भी है..चंदा देने के पहले या बाद सरकार से इन उद्योगपतियों को क्या क्या फ़ायदा हुआ?उद्योगपतियों से लूट और लूट के बदले उद्योगपतियों को भारत लूटने की आज़ादी नहीं देनी चाहिए।ये पैसे देश के टैक्स का पैसा है।

सरकार कहती है काला धन लायेंगे,ये तो छोड़िए इलेक्ट्रोबॉन्ड के धंधे से सरकार ने देश का पैसे को ही काला कर दिया। किसानों मजदूरों व गरीबों को उनका जायज हक दिलाने तथा केंद्र की भाजपा सरकार को सत्ता से उखाड़ फेंकने का मन अब देश का आम मतदाता बन चुका है।

इसलिए लोकदल ने इंडिया गठबंधन का हिस्सा है।चुनावी बिगुल बज चुका है। हम जनता के जीवन से जुड़े जमीनी मुद्दों को लेकर चुनाव में उतर रहे है। इंडिया गठबंधन को मजबूत करने और किसान आंदोलन की ताकत को बढ़ाने के लिए लोकदल हर संभव प्रयास के साथ ही सत्ता लोभियों को आगामी 2024 लोकसभा चुनाव में सबक सिखाने के लिए किसान वोट की चोट देने के लिए तैयार बैठा है।

Comments


bottom of page